एहसास हवा का होता है

No comments

एहसास हवा का होता है पर जिस्म को छूती नहीं
एहसास प्यार  का होता है पर रूह को छूती नहीं
जिस्म से जिस्म तक का सफर तय होता है
पर वो रूहानी नहीं
इश्क़ रूह में जो शामिल होता, उससे बड़ी इबादत कोई नहीं....

No comments :

Post a Comment