एहसास हवा का होता है पर जिस्म को छूती नहीं
एहसास प्यार  का होता है पर रूह को छूती नहीं
जिस्म से जिस्म तक का सफर तय होता है
पर वो रूहानी नहीं
इश्क़ रूह में जो शामिल होता, उससे बड़ी इबादत कोई नहीं....