तुम जो पास आने का इशारा करो

No comments

शाम है बुझी बुझी वक्त है खफा खफा, 
कुछ हंसीं यादें हैं कुछ भरी सी आँखें हैं, 
कह रही है मेरी ये तरसती नजर, 
अब तो आ जाइये अब न तड़पाइये। 

हम ठहर भी जायेंगे राह-ए-जिंदगी में 
तुम जो पास आने का इशारा करो
मुँह को फेरे हुए मेरे तकदीर सी, 
यूँ न चले जाइये अब तो आ जाइये।

No comments :

Post a Comment