मैं किनारा हूँ, मेरी अपनी विवशताएँ हैं

तुम समंदर हो, तुम्हारी अपनी मनमर्ज़ियाँ हैं!!